loading...

न्यूज चैनल्स के खिलाफ लामबंद 34 प्रोड्यूसर्स को विवेक ने बताया पाखंडी, कहा- जब इनके बच्चों की सूसू-पॉटी की खबर छपती थी, तब इन्हें बहुत अच्छा लगता था

फिल्ममेकर विवेक रंजन अग्निहोत्री ने बॉलीवुड के उन 34 प्रोड्यूसर्स पर तंज कसा है, जिन्होंने लामबंद होकर कुछ चैनल्स और पत्रकारों के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। उन्होंने अपने ट्वीट में इन्हें लूजर और पाखंडी बताते हुए लिखा है कि जब इनके बच्चों की सूसू-पॉटी की खबर छपती थी, तब इन्हें बहुत अच्छा लगता था। लेकिन आज जब फैन्स और दर्शक सवाल उठा रहे हैं तो बुरा लग रहा है।

इससे पहले विवेक ने एक अन्य ट्वीट में लिखा था, "बॉलीवुड में करीब 5 लाख लोग काम करते हैं। एक बेवकूफ भी जानता है कि यह लड़ाई उनके साथ नहीं है। यहां सिर्फ कुछ सड़े हुए अंडे हैं, जिन्होंने बॉलीवुड का नाम खराब किया है। अब वे कुछ लोग उनके खिलाफ गैंग बाजी कर रहे हैं, जो सुधार चाहते हैं।"

##

विवेक ने पूछा था - क्या पब्लिक भी केस कर सकती है?

34 प्रोड्यूसर्स और 4 फिल्म संस्थाओं द्वारा दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाए जाने के बाद विवेक ने अपने एक ट्वीट में लिखा था, "क्या पब्लिक भी संगीत, गानों के बोल, भाषा, रचनात्मकता, सोशल फेब्रिक और भारत की संस्कृति को मिटाने के लिए बॉलीवुड पर केस कर सकती है?"

##

प्रोड्यूसर्स और संस्थानों ने क्या लिखा याचिका में?

12 अक्टूबर को सलमान खान, अजय देवगन, रोहित शेट्टी, शाहरुख खान, करन जौहर, साजिद नाडियाडवाला, आमिर खान, आदित्य चोपड़ा और राकेश ओम प्रकाश मेहरा समेत 34 नामी प्रोड्यूसर्स के साथ 4 फिल्म एसोसिएशन (द प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ़ इंडिया, द सिने एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन, द फिल्म एंड टीवी प्रोड्यूसर्स काउंसिल और स्क्रीन-राइटर्स एसोसिएशन) ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाई।

याचिका में मीडिया पर गैरजिम्मेदाराना और अपमानजनक रिपोर्टिंग का आरोप लगाया गया है। साथ ही अपील की गई है कि चैनल रिपब्लिक टीवी, इसके पत्रकार अर्नब गोस्वामी, प्रदीप भंडारी, चैनल टाइम्स नाउ, इसके पत्रकार राहुल शिवशंकर और नविका कुमार को बॉलीवुड हस्तियों के खिलाफ गैरजिम्मेदाराना और अपमानजनक रिपोर्टिंग रोकने के निर्देश दिए जाएं। (पूरी खबर पढ़ें)



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Vivek Agnihotri | Filmmaker Vivek Agnihotri Twitter Reaction After Bollywood Producers move Delhi High Court to Restrain TV channels


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33W2oA3

0 komentar

adnow

loading...